Khwaab


Nitish Bakshi Posted: January 08 ,2014

रातों  में  जग कर  देखे  हैं ,


ख्वाब  नए  पुराने  !


बनेंगे  आज  के  सपने  कल ,


कुछ  यादगार  फ़साने  !!


रहना जागते  यूँही ,


अब  नहीं  सोना  है  !


हर  ख्वाब  को  हक़ीक़त  की,


माला  में  पिरोना  है  !! 





Related Stories

Designed By: Web Solution Centre